गीता प्रेस गोरखपुर पुस्तकें – यहाँ करें ऑनलाइन आर्डर

गीता प्रेस गोरखपुर

गीता प्रेस गोरखपुर

गीताप्रेस गोरखपुर एक नवीन समाज के निर्माण लिए अपने ज्ञान यज्ञ वर्षों से चलाये हुए है. कई पीढियां गीताप्रेस की पुस्तकों से भारत देश की संस्कृति, सभ्यता और पुरातन ज्ञान से परिचित हुई है|
इनकी पुस्तकों की सबसे खास बात होती है पुरातन और दिव्य ज्ञान और पुस्तकों की कम कीमत|



गीता प्रेस गोरखपुर की पुस्तकें आर्डर करें ऑनलाइन

लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि आप ‘गीताप्रेस गोरखपुर’ की पुस्तकें ऑनलाइन इन्टरनेट से भी घर बैठे आर्डर कर माँगा सकते है|
इसके लिए आप इनकी ऑनलाइन वेबसाइट पर जाएँ :
यहाँ आप ‘पुस्तक खोज’ पृष्ठ पर जाकर निम्न प्रकार से पुस्तकें खोज सकते है|
  • पुस्तक कोड
  • पुस्तक नाम
  • लेखक नाम
  • भाषा
  • श्रेणी
  • शब्द
पुस्तकें कार्ट में डाल कर ‘Submit Order’ पर क्लिक करें, उसके बाद अपना विवरण और पता इत्यादि भर के आर्डर पूर्ण करें|

मुफ्त डाउनलोड के लिए उपलब्ध गीता प्रेस गोरखपुर की पुस्तकें

इसके अतिरिक्त ,यहाँ आप कई पुस्तकें यहाँ से मुफ्त डाउनलोड भी कर सकते है:

हिंदी पुस्तकें, गीताप्रेस गोरखपुर की पुस्तकें, Geetapress Gorakhpur ki pustaken, ऑनलाइन भी आर्डर कर सकते है गीताप्रेस गोरखपुर की पुस्तकें 

7 Replies to “गीता प्रेस गोरखपुर पुस्तकें – यहाँ करें ऑनलाइन आर्डर

  1. 112 हनुमान बाहुक
    1593 अन्त्यकर्म श्राद्ध पद्धति प्रकाश
    1809 गया श्राद्ध पद्धति
    210 संन्ध्योपासन बिधी एवं तर्रपन बिधी
    एवं
    सुगम विवाह पद्धति और दुर्गा पूजा पद्धति चाहिए

  2. क्या आपके पास हस्तलिखित महा इंद्रजाल पुराने से पुराना मिल सकता है और जड़ी बूटी ग्रंथ मिल सकता है क्या

  3. क्या आपके पास अभिलाख सागर पुस्तक है संत अभिलाख जी द्वारा लिखी हुई! गुरू समर्थ पर आधारित !

  4. I have visited Geetapress Gorakhpur about 60 years ago.Then my mother used to read Kalyan magazine of Geetapress.Later in 1963 I recieved bhagvadgeeta in gutka[small book]with my graduation degree from Patna University.At that age first time I read Geeta and can say,I was so much benefitted in my family life after my marriage.I could buy few books for my children later who settled abroad.I am so happy to know that now books are available online. I wish that geetapress progress day by day and the teachings of Veda enters to every family.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *