फेसबुक पर लङकीयों को ज्यादा लाइक्स मिलने के राज , पुरुष भी बढ़ा सकते हैं अपना लाइक्स

ladkiyon ko jyada like kyon like kaise badhayen

अरे! यार मेरे फेसबुक पर तो 1-2हजार फ्रेंड्स है फिर भी मेरे फोटो को 100 लाइक मुश्किल से मिलते हैं. यह सवाल तो आपके मन में आता होगा. जब आप अपने किसी महिला फेसबुक मित्र को सौ, दो सौ लाइक और उससे ज्यादा कमेंट्स मिलते देखते होंगे. आप सोचते हो कि फोटो मस्त और कैप्शन भी जबर्दस्त है फिर गिने-चुने लाइक, कमेंट के नाम पर कंगाली और शेयर कौन करता है भला. यह सवाल भले ही आपको निराश करता हो लेकिन इसमें कुसूर आपका नहीं. जब गलती आपकी नहीं है तो फिर मायूस होने की कोई जरूरत नहीं और आपको इन बातों को दिल से नहीं लेना चाहिए. बाॅलीवुड में भी आप नजर डालें तो यह हाल देखने को मिलेगा. लेकिन हाँ, कारण जानना चाहिए कि आखिर क्यों मिलता है लङकों को लङकीयों की अपेक्षा कम लाइक और कमेंट.


लङकीयों को ज्यादा लाइक्स मिलने के कारण:

लङकों का लङकीयों के प्रति आकर्षण तो स्वाभाविक है. आप लङका है तो फिर यह बात समझाने की जरूरत नहीं क्योंकि आप अपने पुरुष मित्र को लाइक करें न करें पर फीमेल मित्र के फोटो को जरुर लाइक व कमेंट करते हैं. सोशल मीडिया पर लङकों की संख्या सबसे अधिक है और लङकीयों का बहुत कम. यह सबसे अहम कारण है. दुसरा मुख्य कारण यह है कि लङकीयां सबसे अधिक फोटो पोस्ट करती है जबकि लङकों को अपने विचार व्यक्त करना अच्छा लगता है. जिसके कारण लोग सोशल मीडिया पर पढ़ने से ज्यादा देखना पसंद करते हैं. लङकीयों की तस्वीर देखना तो लङकों को बेहद पसंद है. तीसरा मुख्य कारण है कि सोशल मीडिया पर हर वर्ग/श्रेणी के पुरुष शामिल है जबकि केवल पढी लिखी महिला ही फेसबुक उपयोग करती हैं. चौथा कारण यह भी है कि महिला किसी अन्य पुरुष मित्र को लाइक व कमेंट करने में डरती हैं क्योंकि हमारे समाज में बहुत सी बंदिशें जो है जबकि पुरुषों को तो पूरी आजादी होती है.

आप भी बढ़ा सकते हो अपना लाइक्स और कमेंट्स:

एक अच्छे व्यक्ति को हर कोई लाइक करता है लेकिन जरूरी है कि आप अच्छे व्यक्तियों के संपर्क में रहे और ज्यादा से ज्यादा मित्र बनाएं. लेकिन यह ख्याल रखे कि आपके फेसबुक मित्र आपको भलीभाँति जानते हो और वैसे ही लोगों को मित्रों की श्रेणी में शामिल करें. जो भी पोस्ट करें मौजूदा स्थिति के अनुसार करें. कोशिश करे किसी भी संदेश को फोटो के रूप में देने का. कमेंट का जवाब लाजवाब दे ताकि सामने वाले को अच्छा लगे और संतुलित भाषा का प्रयोग करें. सोशल मीडिया पर चल रहे विवाद और अभियान में बढ़ चढ़कर हिस्सा लें. पर अभद्र भाषा का इस्तेमाल न करें.

लेखक: रवि रणवीरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *