नोटबंदी के बाद एक बार फिर शनिवार और रविवार को भारत के सभी बैंक खुलेंगे, पढ़े पूरी जानकारी-

नोटबंदी का फैसला भी इसी तरह रात में हुआ था. जैसे कि इस समय यह खबर लिखी जा रही है. धड़ाक से लगा था सभी लोगों को चाहे वह पैसा वाला था या फिर गरीब. नोटबंदी ने सबकी धड़कने बढ़ा दी थी. पर नोटबंदी के बाद एक बार फिर से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने कहा है कि सभी भारतीय बैंक शनिवार और रविवार को खुलेंगे. इस खबर के बाद हमें भले ही राहत की सांस मिल रही है पर बैंककर्मियों को एक बार फिर से मेहनत करना पड़ रहा है.


हम तो मस्त अपने घर में बैठे हैं और खबर मिलने के बाद बैंक जाएंगे पर बैंककर्मियों को राहत नहीं मिलने वाली. यानि की शनिवार और रविवार की छुट्टी पर पानी फिर गया. शनिवार की आधी और रविवार की पूरी छुट्टी का हो गया कल्याण! हालांकि एक प्रकार से यह फैसला कल्याणकारी ही हैं. भले ही बैंक वालों को मेहनत दोगुना करना पड़ेगा पर देश को आर्थिक रूप से मजबूत करन के लिए मेहनत तो करना पड़ता है.

आज आप भी ना सोएं-

शनिवार और रविवार के नाम पर आपको भी जगना पड़ सकता है यदि आपका कोई बैंक का काम बाकि रह गया है. या फिर आपने टैक्स नहीं भरा है तो फिर रविवार सोचकर आराम ना फरमाएं बल्कि बिना देरी किए बैंक जाएं. क्योंकि आरबीआई ने हमारी सेवा के लिए ही बैंकों को खुला रखा हैं. तो जल्दी अपने नजदीकी शाखा में जाकर काम करवा लें.

क्यों खुले हैं बैंक-

पुराने नोट जमा करने के लिए नहीं बल्कि टैक्स आदि जमा करने के लिए बैंकों को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के आदेश पर शनिवार और रविवार को खोला जा रहा है. आपको तो पता ही होगा कि मार्च वित्तीय माह है जब साल भर की कमाई का ब्यौरा सरकार के समक्ष दिखाना होता है. यदि आपने भी टैक्स नहीं भरा है तो जल्द ही 1 अप्रैल तक टैक्स भर दें नहीं तो फिर जुर्माना भरना पड़ सकता है. समझे ना कि टैक्स भरने के लिए आरबीआई के आदेश पर 25 मार्च से लेकर 1 अप्रैल, 2017 तक बैंक शनिवार और रविवार को खुले रहेंगे. यानि की शनिवार को आधा दिन ना खुलकर पूरा दिन बैंक खुला रहेगा. इस दौरान किसी छुट्टी पर भी बैंक बंद नहीं रहेगा. 1अप्रैल के बाद बैंक फिर से अपने सामान्य समयानुसार खुलेंगे. जिन लोगों ने टैक्स नहीं भरा है वे लोग आखिरी समय में भी टैक्स भरकर देश के विकास को गतिमान करे.

2 Replies to “नोटबंदी के बाद एक बार फिर शनिवार और रविवार को भारत के सभी बैंक खुलेंगे, पढ़े पूरी जानकारी-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *