वानाक्राई रैनसमवेयर साइबर अटैक और भारत पर इसका प्रभाव…..

Ransomeware ये शब्द आजकल बहुत चर्चा में है ransome का मतलब होता है फिरौती और wannacry हैकर्स का एक ग्रुप है, जो लोगों के विंडोज कंप्यूटर में वायरस की तरह कही से आ जाता है या भूल से डाउनलोड हो जाता है। ऐसे में यह आपके कंप्यूटर को पूरी तरह लॉक कर देता है या टेक्निकली बोलें तो आपके पीसी के डेटा को एन्क्रिप्ट कर देता है। आज हम आपको इसके बारे में डिटेल्स में बताएंगे।


Ransomeware से बचने के उपाय:

Ransomeware .mp4.exe, .mp3.exe, .avi.exe जैसे फॉरमेट में होता है, अक्सर ये ऐसी वेबसाइट्स से डाउनलोड हो जाता हैं, जिनपे एक से ज्यादा पॉपअप विंडोज खुल जातीं हैं, तो इस प्रकार के आटोमेटिक सॉफ्टवेयर से बचें और इन्हें इनस्टॉल न करें। इसके अलावा ईमेल में भी ऐसी किसी अटैचमेंट फ़ाइल को डाउनलोड न करें जिसके बारे में आपको सही से जानकारी न हो।

सबसे पहले तो मैं हिंदी इंटरनेट के समस्त पाठकों को सलाह दूंगा कि अपने कंप्यूटर में पायरेटेड या फ्री की विंडोज न इस्तेमाल करें, क्योंकि इस तरीके की विंडोज को अपडेट नहीं किया जा सकता और ऐसे में आपका माइक्रोसॉफ्ट के लेटेस्ट सिक्योरिटी पैचेस से वंचित रह जाएंगे और ransomeware जैसे वायरस के शिकार हो जाएंगे।

दूसरी बात अगर आप जेन्युइन या फिर ओरिजिनल विंडोज इस्तेमाल करतें हैं, तो उसे अपडेट कर लें, क्योंकि माइक्रोसॉफ्ट ने मार्च में इस वायरस का अपडेट लांच कर दिया है। बेहतर होगा कि आप एक पेड एंटीवायरस का भी इस्तेमाल करें, जो ऐसी समस्याओं से आपके सिस्टम की रक्षा करता रहें।

विंडोज यूजर अपने सिस्टम में फ़ायरवॉल को ऑन रखें और नियमित तौर से सिस्टम को स्कैन करतें रहें। इसके अलावा एक और सलाह जो हैम आपको यहां देना चाहतें हैं, वो ये है कि अपने जरूरी डेटा का एक हार्ड ड्राइव में बैकअप नियमित तौर पर लेतें रहें। ताकि ransomeware के अटैक होने पर आप अपने पीसी को फॉरमेट कर के वापस हार्डडिस्क से अपना डेटा लें सकें। ध्यान रखें कि हार्डडिस्क को सिर्फ बैकअप लेने या डेटा को वापस सिस्टम में डालने के लिए ही इस्तेमाल करें। क्योंकि परमानेंट कनेक्ट रखने पर इसमें भी वायरस आने के चान्सेस बढ़ जातें हैं।

wannacry-ransomeware-attack-on-windows

Ransomeware अटैक में डेटा मिलने का चांस न के बराबर होता है, तो कृपया किसी भी रकम की अदायगी न करें। क्योंकि इन हैकर्स का इतिहास यही है कि ये पैसे लेकर भी डेटा वापस नहीं करतें। ये हैकर्स आपके सिस्टम में डेटा लॉक कर देतें हैं और फिर आपका सिस्टम एक विंडोज दिखता है, जिसमे कुछ रकम की मांग होती है और इसकी पेमेंट ऑनलाइन करनी होती है।

आशा करता हूँ कि इस लेख से आपको अपने सिस्टम को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी। अपने सुझाव और सवाल कमेंट में लिखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *