सरकारी एप के जरिए सीखें भारत की दुर्लभ भाषा-


भारत में एक चार कोस पर भाषाएं बदलती है. भारत विविधताओं का देश है. ये हम जानते हैं. इनमें से बहुत सारी भाषाएं विलुप्त हो रही है मतलब कि हमनें बोलना छोड़ दिया या कम बोली जा रही है. भारत सरकार ने इन भाषाओं के भविष्य को बचाने के लिए एक वेब पोर्टल के साथ-साथ मोबाइल एप बना दिया है. इसके जरिए आप इन भाषाओं को सीख सकते हैं. इसके लिए आपको कोई शुल्क नहीं देना होगा. सबसे खासियत यह है कि इसका उपयोग आप हिंदी, अंग्रेजी आदि भाषा में कर सकते हैं.


सरकारी आंकडों की मानें तो सरकार ने ऐसे 83 भाषाओं को इसमें शामिल किया गया है जिनको इस एप के जरिए सीखाया जाएगा. खबरों की मानें तो हमारे देश में अनुमानित 1500 भाषाएं है. भारतवाणी पोर्टल दुनिया भर के लोगों को भारत की ख़त्म हो रही 83 भाषाओं के अलावा कई मोनोलिंगुअल और बहुभाषीय शब्दकोशों का उपयोग करने की इजाजत देता है. इससे हमारी भाषा को मजबूत बनाने का काम किया जा रहा है. भाषा बचाने के लिए सरकार की पहल की जा रही है.

 

भारतवाणी पोर्टल-

बीजेपी की सरकार डिजिटलाइजेशन को बढाने के साथ-साथ देश को सशक्त बनाने का काम कर रही है. इसका एक नमूना हम भारतवाणी के रूप में देख रहे हैं. ‘भारतवाणी’ एक परियोजना है.  जो कि पाठ, श्रव्य, दृश्य एवं छवि (ऑडियो व विज्यूअल) का उपयोग करते हुए भारत की समस्त भाषाओं के बारे में एवं भारतीय भाषाओं में उपलब्ध ज्ञान को एक पोर्टल (वेबसाइट) पर उपलब्ध कराना है.

ऐसे सीखें भाषा-

  • यदि आप वेब पोर्टल का उपयोग कर सीखना चाहते हैं तो यहां पर क्लिक करें.
  • यदि आप मोबाइल एप के जरिए सीखना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें.
  • डाउनलोड कर ओपन करें.
  • इसके बाद ईमेल आईडी के साथ रजिस्ट्रड करें.
  • आपके सामने बहुत सारी भाषाओं की लिस्ट दिख रही होगी. मनचाही भाषा को मनचाहे भाषा में सीखने के लिए क्लिक करें.
  • विशेष जानकारी के लिए पोर्टल या एप के संपर्क सेक्शन में जाकर बात कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *