Google लाया Fake News पहचाननें का तरीका, किसी Website की खोलें पोल


फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप जैसे तमाम सोशल मीडिया पर फेक न्यूज (Fake News) फैलाए जा रहे हैं। अब इनको रोकने व पहचानने के लिए गूगल ने सबसे आसान तरीका निकाला है। इसके जरिए आपको सीधे तौर पर पता चल जाएगा कि Fake News और Trusted News कौन-सा है। इतना ही नहीं कौन सी वेबसाइट बीजेपी, कांग्रेस, वाम दल को सपोर्ट कर रही है। यानी कि किसका झुकाव किस ओर है। इन सबकी जानकारी के लिए आपको एक काम करना होगा।


फेसबुक या सोशल मीडिया पर कई ऐसे लिंक्स खोल देते हैं। यह जानें बिना की आखिर कौन सी खबर कितनी सही है। इतना ही नहीं उसको शेयर भी करते हैं। लेकिन तभी जब हम कुछ फैक्ट्स या फिर हमें इस बात का पता चलता है कि खबर का एक तरफ झुकाव है या फेक खबर है तो शर्म महसूस होती है। अब लिंक फेक है या रियल इसका कैसे पता लगाएं? अब शायद आप जो भी लिंक खोलेंगे आपको कुछ सेकेंड्स में ही इसकी जानकारी मिल जाएगी।

गूगल ने शुरू किया

वैसे तो ये सबसे पहले गूगल ने शुरू कर दिया है। जिससे कि कई वेबसाइट्स के पोल खुल चुके हैं। Eyeo जिसे एडब्लॉक प्लस ने बनाया है। इस टूल के जरिए फेक न्यूज का पता करना बेहद आसान है। इसका नया ब्राउजर एक्सटेंशन TrustedNews है।

ऐसे करता है काम

  • TrustedNews सिर्फ क्रोम के लिए ही उपलब्ध है।
  • यदि आप क्रोम यूजर हैं तो फिर सबसे पहले trusted-news.com पर क्लिक करें।
  • इसके बाद Get TrustedNews for Chrome को चुनें।
  • अब ये लिंक आपको क्रोम के वेब स्टोर पर लेकर जाएगा।
  • अब एड टू क्रोम करना होगा और बस हो गया आपके सिस्टम में ये टूल इंस्टॉल।
  • अब आप जब भी किसी न्यूज साइट या किसी दूसरे टैब पर जाकर किसी लिंक को क्लिक करेंगे तो ब्राउजर आपको इस बात की जानकारी दे देगा कि जो आप पढ़ रहें हैं वो रियल है या फेक।
  • इसके अलावा यहां पर सभी वेबसाइट की रेटिंग देख सकते हैं।
  • TrustedNews एक्सटेंशन को MetaCert Protocol संचालित करता है और Snopes और PolitiFact जैसी चीजों का इस्तेमाल कर न्यूज के कंटेंट को मापता है।
  • जब आप किसी वेबसाइट पर जाते हैं तो ये टूल आपको उस साइट के बारे में जानकारी देगा और गूगल क्रोम आपको एक हरे रंग का चेकमार्क देगा जिससे ये पता चल जाएगा कि वेबसाइट सही है या गलत।
  • जब आप उस आइकन पर क्लिक करेंगे तो आपको ये टूल उस वेबसाइट के बारे में पूरी जानकारी दे देगा कि क्यों ये वेबसाइट रियल है।

ऐसे सिंग्नल देने का मतलब समझें

Biased: वेबसाइट जिसका झुकाव एक पार्टी, एक वेबसाइट और किसी चीज को प्रमोट करने के लिए किया जाता है।

Clickbait: फेक टाइटल की मदद से खबर परोसने वाले वेबसाइट्स।

Malicious: ऐसा वेबसाइट जो आपके कंप्यूटर को वायरस की मदद से अटैक कर सकता है।

Satire: एक ऐसा वेबसाइट जिसमें कंटेंट तो होता है लेकिन फैक्ट्स नहीं होते।

Unknown: आपके पास डेटा की कमी है जिसकी वजह से आप इस वेबसाइट पर नहीं जा सकते।

Untrustworthy: वो फेक खबरें जिसका इस्तेमाल यूजर्स को भटकाने के लिए किया जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *