जनरल टिकट लेकर बिना चालान कटाए स्लीपर में ऐसे कर पाएंगे सफर-


यह कोई गलत खबर नहीं, ना कोई वायरल सूचना है.


खबर बिलकुल पक्की है. इस खबर को अधिकारिक तौर से प्राप्त जानकारी व नियम कानून के आधार पर आपको दिया जा रहा है ताकि विकट परिस्थिति में आप टीटीई के झमेले से बच सकें. इसे ना केवल आपको सफर करने का फायदा मिलेगा बल्कि ज्यादा पैसा ऐंठने वाले टीटीई से बचाव हो जाएगा. चाहें तो उस टीटीई को इन जानकारियों को देकर बाकि लोगों की भी मदद कर सकते हैं.

हमारे देश में रेलवे के हाल से हर कोई वाकिफ है. रेल में सीट मिल पाना कितना मुश्किल है, जनरल बोगी को देखकर बताया जा सकता है. जब महिनों पहले टिकट करने पर भी सीट कंफर्मेशन की गारंटी नहीं होती है तो फिर तत्काल में आपको कहां से मिलेगी. ऐसी स्थिति में यह जानकारी आपको भले सीट ना दिलाए लेकिन आपकी काफी हद तक मदद कर सकती है.

अगर आप लंबी दूरी की यात्रा अचानक करनी पड़ जाए. टिकट कंफर्म नहीं है तो फिर घबराने की बात है लेकिन घबराएं नहीं क्योंकि हम आपके लिए खास जानकारी लेकर आए हैं जो कि अचानक सफर को भी मंगलमय बना देगी.

 

इन उपायों को अपनाएं-

  1. स्टेशन पहुंचने के बाद ट्रेन की जानकारी लें.
  2. यदि आपकी ट्रेन उसी स्टेशन से खुलती है तो फिर पता कर लें कि क्या वेटिंग टिकट मिल रहा है.
  3. यदि आपको वेटिंग टिकट मिल गया तो आप स्लीपर में यात्रा कर पाएंगे लेकिन यदि ना मिलें तो इन उपायों को अपनाएं.

जनरल टिकट लेकर स्लीपर में यात्रा-

  • यदि वेटिंग टिकट भी नहीं मिलता है तो जनरल टिकट लेना ना भूलें.
  • ख्याल रखें कि टिकट सुपरफास्ट का ही लें ताकि किसी भी एक्सप्रेस में भी सफर कर पाएं.
  • अब यदि जनरल बोगी भरा हुआ है तो आप स्लीपर में जा सकते हैं.
  • इसके बाद खासकर ख्याल रखें कि आरक्षित सीट वालों को परेशान ना करें. यदि वह अपनी सीट पर बैठने नहीं देते हैं तो आप जबरन ना बैठें नहीं तो मुसीबत में पड़ सकते हैं.
  • अब आप टीटीई या टीसी से मिलकर आपका अतिरिक्त किराए एफटी (एक्सेस फेयर टिकट) की रसीद कटा लें. यदि वह फाइन या कुछ अन्य प्रकार से डराने व पैसे ऐंठने की बात करता है तो डरें नहीं. उसे केवल लागत किराया दें. क्योंकि अगर आपके पास है जनरल टिकट तो टीसी कानूनन तौर से चालान नहीं काट सकता है.
  • रसीद कटने पर अब आप आऱाम से स्लीपर में खड़े या नीचे बैठकर यात्रा कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *