प्याज के फायदे है लाजवाब देखें अपनाकर

Pyaj ke fayde hindi me

प्याज हर समय उपयोग की जाने वाली सब्जी है। हम प्याज को कई चीजों में इस्तेमाल करते हैं, प्याज की आप चटनी भी बना सकते हैं और सब्जी में स्वाद को बढाने के लिए भी प्रयोग करते हैं।


लेकिन क्या आपको प्याज के फायदों के बारे में पता है। आज हम प्याज के कुछ ऐसे फायदों के बारे में जानेंगे जिन से रोगों का इलाज होता है।

प्याज से रोगों का इलाज कैसे करें?

 
1. कान में दर्द हो या कान में सूजन हो या फिर कान बहता हो, तो कान के हर प्रकार के रोग के लिए

  • प्याज का रस और साथ में अलसी का रस लेकर उसे थोड़ा सा पका ले
  • और उसकी दो दो बूंद अपने दर्द वाले कान में डाल लें।
  • आपको जल्दी ही आराम महसूस होगा।
2. शरीर का कोई अंग किसी कारण से जल गया हो तो

  • आप प्याज को कूट कर वहां पे लगाये जहाँ से जला है।
  • जल्दी ही आराम हो जायेगा।
3. जब आपको कोई विषैला कीड़े जैसे बिच्छू, कनखजूरा आदि कहीं काट ले तो,

  • आप प्याज को हाथों से कुचलकर उसको काटी हुईं जगह पर लगा ले।
  • और साथ में डाक्टर को भी जरूर दिखायें।
4. जब आपको अगर कुत्ता काट ले तो,

  • उस व्यक्ति को डॉक्टर के पास ले जाने से पहले प्याज पुदीने का रस निकालकर
  • और तांबे के बर्तन में डालकर उसे कुत्ते के काटे हुए स्थान पर लगा ले।
  • इस से उसका जहर कम हो जाता है।
5. किसी दिमागी कमजोरी के कारण कोई व्यक्ति बेहोश हो जाये तो,

  • आप उसे प्याज का रस सूंघा दे।
  • उसको जल्दी ही होश आ जायेगा।
6. मूत्राशय की पथरी के लिए प्याज बहुत ही लाभकारी होता है। अगर जिसको भी पथरी है उसे,

  • प्याज के रस के साथ थोडी शकर मिलाकर उसका शर्बत बना के रोगी को पिलायें।
  • अगर ऐसा हर दिन किया जाये तो रोगी की पथरी कट कट के मूत्र के साथ निकल जायेगी।
  • इसमें रोगी को कुछ परहेज रखने की भी जरूरत होगी। जैसे टमाटर, मूंग और चावल का सेवन ना करने दे।
  • रोगी को अपने भोजन में खीरे को भी सम्मिलित करना चाहिए।
  • और साथ में ही उसे जी भर के पानी भी पीना चाहिए।
7. प्याज नशा उतारने के काम भी आता है।

  • यदि किसी नशे वाले व्यक्ति को थोडा प्याज का रस पिला दिया जाये तो उसका नशा काफी हद तक कम हो सकता है।
आशा करता हूँ कि आपको जानकारी पसंद आयी होगी। इस जानकारी को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भी बतायें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *